save-girl-child

नए साल में बेंगलुरु एक नयी पहल करने जा रहा है। बेटियों के जन्म से लेकर उनकी पढ़ाई तक को प्रोत्साहित करने के लिए एक से बढ़कर एक प्रयास देश में हो रहे हैं। इसी कड़ी में बेंगलोरे के मेयर आर संपत राज ने कहा कि बेंगलुरु के सरकारी अस्पताल में पहली जनवरी को जन्म लेने वाली पहली बेटी की पढ़ाई का पूरा खर्च महानगर पालिका उठाएगी। एक संयुक्त खाते में पांच लाख रुपये पालिका की तरफ से जमा करा दिए जाएंगे जिसके ब्याज से उक्त बिटिया के स्नातक तक की पढ़ाई का खर्च आसानी से उठाया जा सकेगा।

31 दिसंबर की आधी रात के बाद नए साल के शुरुआती घंटे बेंगलुरु में बेहद रोमांचक होंगे। पूरा शहर उस बेटी के बारे में जानना चाहेगा जो एक जनवरी को सबसे पहले पैदा होगी। यही वजह है कि सरकारी अस्पतालों के मेडिकल आफिसरों को निर्देश दिया गया है कि वे बेहद सतर्कता से इस तथ्य को दर्ज करें कि सामान्य प्रसव से सबसे पहले किस बेटी ने जन्म लिया।

पहल की पहली शर्त – इस योजना के तहत पहली बेटी के चयन के लिए कुछ शर्तें भी लगाई गई हैं। इसमें सबसे महत्वपूर्ण है कि पहली बेटी के जन्म से जुड़ा प्रसव ऑपरेशन से नहीं होना चाहिए। नार्मल डिलिवरी से पैदा हुई बिटिया ही इस अभिनव पहल की हकदार होगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *